भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग सीमेंट बाजार की प्रतिस्पर्धा का अध्ययन करेगा

भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग सीमेंट बाजार की प्रतिस्पर्धा का अध्ययन करेगा

भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (CCI) ने भारत में सीमेंट क्षेत्र पर एक बाजार अध्ययन शुरू किया है। यह अध्ययन सीमेंट बाजार की कार्यप्रणाली और उसमें प्रतिस्पर्धा की स्थिति की व्यापक समझ विकसित करने के लिए किया जा रहा है। अध्ययन के उद्देश्य निम्नलिखित हैं:
  • सभी क्षेत्रों में सीमेंट क्षेत्र में विकसित होते बाजार स्वरूप पर गौर करना
  • बाजार के रुझानों का अध्ययन करना
  • सीमेंट मूल्य निर्धारण को समझना
  • सभी संबंधित हितधारकों से संपर्क करना और प्रतिस्पर्धा में आने वाली बाधाओं की पहचान करना
  • सीमेंट क्षेत्र में CCI के लिए प्रवर्तन और हिमायत संबंधी प्राथमिकताओं को सुनिश्चित करना
यह अध्ययन द्वितीयक अनुसंधान और हितधारकों से परामर्श का संयोजन होगा। द्वितीयक और प्राथमिक स्रोतों से गुणात्मक एवं मात्रात्मक जानकारियां एकत्रित की जाएंगी। अध्ययन दल पूरे देश में संबंधित हितधारकों के साथ परामर्श करेगा।
सीमेंट एक महत्वपूर्ण निर्माण सामग्री है जो आवास, अवसंरचना और अन्य निर्माण कार्यों में उपयोग की जाती है। भारत में सीमेंट बाजार का आकार लगभग 35 बिलियन अमेरिकी डॉलर है। इस बाजार में लगभग 20 कंपनियां हैं, जिनमें से चार कंपनियां बाजार की लगभग 60% हिस्सेदारी रखती हैं।
CCI का यह अध्ययन सीमेंट बाजार में प्रतिस्पर्धा की स्थिति की एक महत्वपूर्ण तस्वीर प्रदान करेगा। अध्ययन के परिणामों से यह पता चल सकता है कि क्या सीमेंट बाजार में प्रतिस्पर्धा पर्याप्त है या नहीं। यदि अध्ययन से यह पता चलता है कि सीमेंट बाजार में प्रतिस्पर्धा कम है, तो CCI उचित कार्रवाई कर सकता है, जैसे कि जांच या प्रतिस्पर्धा विरोधी प्रथाओं के खिलाफ कार्रवाई।
सीमेंट बाजार पर CCI का यह अध्ययन भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण है। सीमेंट एक महत्वपूर्ण निर्माण सामग्री है, और प्रतिस्पर्धी सीमेंट बाजार से अर्थव्यवस्था में निर्माण गतिविधियों को बढ़ावा मिलने की उम्मीद है।

Leave a Comment