प्रधानमंत्री ने एशियाई पैरा गेम्स 2022 में भाग लेने वाले भारतीय एथलीटों के दल को संबोधित किया

प्रधानमंत्री ने एशियाई पैरा गेम्स 2022 में भाग लेने वाले भारतीय एथलीटों के दल को संबोधित किया

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 1 नवंबर, 2023 को नई दिल्ली के मेजर ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम में एशियाई पैरा गेम्स 2022 में भाग लेने वाले भारतीय दल को संबोधित किया। इस कार्यक्रम में एथलीटों, उनके कोच, भारतीय पैरालंपिक समिति और भारतीय ओलंपिक संघ के अधिकारियों, राष्ट्रीय खेल महासंघों के प्रतिनिधियों और युवा कार्यक्रम और खेल मंत्रालय के अधिकारियों ने भाग लिया।
प्रधानमंत्री ने एथलीटों की रिकॉर्ड तोड़ सफलता पर बधाई दी और कहा कि यह भारत के लिए एक बड़ी उपलब्धि है। उन्होंने कहा कि यह सफलता पूरे देश को प्रेरित करती है और नागरिकों में गर्व की भावना भी पैदा करती है।
प्रधानमंत्री ने कहा कि खेलों में कोई शॉर्टकट नहीं होता है। उन्होंने कहा कि खिलाड़ी वैसे तो अपनी क्षमताओं पर निर्भर करते हैं लेकिन थोड़ी सी मदद मिले तो उसका कई गुना प्रभाव होता है। उन्होंने परिवारों, समाज, संस्थानों और अन्य सहायक इकोसिस्टम के सामूहिक समर्थन की जरूरत बताई।
प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार एथलीटों के लिए हर संभव मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने खेलो इंडिया योजना, टॉप्स पहल और एक डिसेबिलिटी स्पोर्ट्स ट्रेनिंग सेंटर का उल्लेख किया।
प्रधानमंत्री ने कहा कि कठिनाइयों के सामने एथलीटों का गजब का हौसला देश के लिए उनका सबसे बड़ा योगदान है। उन्होंने कहा कि आपने दुर्गम बाधाओं को पार किया है। इस प्रेरणा को हर जगह स्वीकार किया जाता है।
प्रधानमंत्री ने कहा कि हर टूर्नामेंट में आपकी भागीदारी इंसानी सपनों की जीत है। यह आपकी सबसे बड़ी विरासत है। और इसलिए मुझे विश्वास है कि आप इसी तरह मेहनत करते रहेंगे और देश का नाम रोशन करते रहेंगे। हमारी सरकार आपके साथ है, देश आपके साथ है।
प्रधानमंत्री ने संकल्प की शक्ति को दोहराते हुए अपनी बात समाप्त की। उन्होंने कहा कि एक राष्ट्र के रूप में हम किसी भी उपलब्धि पर रुकते नहीं हैं और अपनी उपलब्धियों पर आराम नहीं करते हैं।

प्रधानमंत्री के संबोधन के प्रमुख बिंदु निम्नलिखित हैं:
  • एशियाई पैरा गेम्स 2022 में भारतीय दल की रिकॉर्ड तोड़ सफलता पर बधाई
  • खेलों में कोई शॉर्टकट नहीं होता है, खिलाड़ियों के लिए परिवारों, समाज, संस्थानों और अन्य सहायक इकोसिस्टम के सामूहिक समर्थन की जरूरत
  • सरकार एथलीटों के लिए हर संभव मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है
  • कठिनाइयों के सामने एथलीटों का गजब का हौसला देश के लिए उनका सबसे बड़ा योगदान
  • हर टूर्नामेंट में भारतीय एथलीटों की भागीदारी इंसानी सपनों की जीत
  • भारत को खेलों में एक मजबूत राष्ट्र बनाने के लिए संकल्प की शक्ति
प्रधानमंत्री के इस संबोधन से भारतीय एथलीटों को प्रेरणा मिलेगी और वे भविष्य में और भी बेहतर प्रदर्शन करने के लिए प्रेरित होंगे।

Leave a Comment